Saturday, December 31, 2016

वर्ड्स - दिज वर्ड्स आर आल आई हैव टू टेक योर हार्ट अवे

दिल्ली के ग्रीन पार्क इलाके में वो एक छोटा सा कैफे था जो तुम्हें काफी पसंद था. शायद दिल्ली का सबसे पसंदीदा कैफे था तुम्हारा. उस कैफे से तुम्हारी दोस्ती कॉलेज के वक़्त से ही हो गयी थी और तब से ही वो कैफे दिल्ली में तुम्हारा अड्डा बन गया था. जाने कितनी शैतानियाँ की हैं तुमनें इस कैफे में और जाने कितने तुम्हारे खुफिया मिसन की प्लानिंग और एक्सक्यूशन भी इसी कैफे में हुए थे. कई खतरनाक आइडियाज भी तुम्हें इसी कैफे में आये थे, जिनकी वजह से हर बार मैं मुसीबत में फँस जाया करता था. मुझे याद है कॉलेज के बाद के दिनों में भी जब कभी तुम दिल्ली में रहती, तो पूरा पूरा दिन तुम इस कैफे में बिता देती थी. घर में तुम्हारे पैर टिकते कहाँ थे? इस कैफे को ही एक तरह से तुमने अपना घर बना लिया था. कैफे की तीन चीज़ें तुम्हें काफी पसंद थी - यहाँ कोने में मैगजींस और कुछ किताबें रखे होते थे कि अगर आप अकेले हैं तो कुछ देर के लिए इन्हें पढ़ सकते हैं, कुछ ख़ास कस्टमर्स के लिए काउंटर पर लूडो और चेस भी उपलब्ध मिल जाते थे और कैफे में बजता संगीत जो तुम्हें सबसे ज्यादा पसंद था. कैफे के काउंटर के ठीक पीछे सिर्फ दो कुर्सी और एक टेबल लगी रहती थी, और तुम्हें वहाँ बैठना पसंद था.. इस कैफे की एक और बात थी जो तुम्हें बड़ी अच्छी लगती थी...हालाँकि वो बात मुझे उतनी अच्छी नहीं लगती थी. इस कैफे में जितनी बार भी तुम्हारे साथ मैंने चेस और लूडो खेला है उतनी बार तुमसे हारा हूँ मैं...मुझे तो अब तक याद है कैसे तुम पूरे टसन में राजकुमार स्टाइल डाइअलॉग मारती थी.... “जानी...ये मेरा इलाका है...यहाँ मुझे हराना मुमकिन ही नहीं...नामुमकिन है.”

कैफे का मालिक जिसका नाम रणवीर था, वो भी तुम्हें बड़े अच्छे से पहचान गया था. तुम्हें उसके म्यूजिक का टेस्ट काफी पसंद था. कैफे में बजता म्यूजिक तुम्हें बड़ा ‘सोल्फुल’ लगता था. रणवीर को तुमने एक निकनेम दे दिया था ‘डेविड’, जो किसी मशहूर डीजे का नाम था. तुम अक्सर कहती थी कि रणवीर भी डेविड जैसे मैजिकल गाने सुनाता है हमें. रणवीर से तो तुम्हारी खूब गहरी दोस्ती भी हो गयी थी, और तुम्हारे ही जरिये मेरी भी उससे दोस्ती हो गयी थी. रणवीर से तुम्हारी दोस्ती का किस्सा भी अजीब है. एक दिन जाने तुम्हें क्या सूझी, तुम मुझसे कहने लगी, चलो हम और तुम मिलकर एक ऐसा ही कैफे शुरू करते हैं और जब तक मैं तुम्हारे इस बात का कुछ जवाब दे पाता या तुम्हें कुछ समझा पाता, तुम काउंटर पर चली गयी थी और रणवीर से बातें करने लगी थी कि कैसे हम एक कैफे शुरू कर सकते हैं. तुम्हारी हरकतों और बदमाशियों से अनजान वो तुम्हें एक क्युरीअस आन्ट्रप्रनर समझ कर तुम्हें सब जानकारियां भी दे रहा था...और तुम..तुम तो ऐसे उसकी बातों पर सिर हिला रही थी जैसे तुम्हें उसकी सभी बातें समझ में आ रही हों. मैं जब काउंटर पर आया था तो मेरे प्रति तुम्हारा बर्ताव भी ऐसा था कि रणवीर को जरूर ये लगा होगा कि मैं तुम्हारा कोई असिस्टेंट हूँ. उस दिन के बाद तो तुम महीनों तक जिद पर अड़ गयी थी कि हम दोनों को एक कैफे शुरू करना ही चाहिए. बड़ी मुश्किल से तुम्हारी ये जिद छुट पायी थी.

इस कैफे में कभी कभी तुम अजीबोगरीब हरकतें भी करने लगती थी. तुम्हें याद है कैसे तुम यहाँ बैठे बैठे ही अक्सर किसी ‘नोस्टालजिक जर्नी’ पर चली जाया करती थी? वो दिन तो याद है न तुम्हें जब मेरी पढ़ाई खत्म हुई थी और मैं दिल्ली तुमसे मिलने आया था. तुम बहुत खुश थी उस दिन, हम करीब छः महीने बाद जो मिल रहे थे. ग्रीन पार्क के मेट्रो स्टेशन पहुँच कर जब मैंने तुम्हें फोन किया और ये जानना चाहा कि तुम कैफे पहुँची हो या नहीं, तो तुमने फोन पर मुझे बड़ा अजीब जवाब दिया था जो मुझे उस समय तो बिलकुल समझ में नहीं आया था..तुमने कहा था “मैं कैफे में ही बैठी हूँ और अब लौट रही हूँ..तुम आओ तब तक मैं भी लौट आऊँगी..”

मैं तो कुछ देर तक यही सोचता रहा कि तुम्हारा जवाब कितना कान्ट्रडिक्टरी है.. तुम्हारे बोलने का क्या अर्थ समझूँ मैं? तुम कैफे में बैठी हो और लौट भी रही हो? ये कैसे मुमकिन है? मेरी इस क्युरीआसटी को शांत भी तुमने ही किया था. तुमने उलाहना भरे स्वर में कहा था “तुम तो थे नहीं दिल्ली में और मैं यहाँ अकेली थी...क्या करती मैं? किसे परेशान करती? किसके साथ घुमती? अकेले तो कॉफ़ी पीने में भी मज़ा नहीं आता है..तो एक दिन यहाँ बैठे बैठे मैंने अपनी एक स्पेशल पावर्स का इस्तेमाल किया और आँखें बंद कर के उन दिनों में जाने लगी जब हम और तुम साथ घूमते थे, जब तुम थोड़े कम नालायक थे.”

स्पेशल पावर्स? तुम्हारे पास स्पेशल पावर्स भी है? मैंने तुमसे पूछा था, और फिर तुमने कुछ ऐसे मुझे घूर के देखा था कि आगे कोई बात पूछने की मुझमें हिम्मत ही बाकी नहीं रही.

तुमने इस कैफे को एक तरह से अपना घर ही बना लिया था. जहाँ पर हम तुम अक्सर बैठते थे, उस टेबल के चारों तरफ तुम्हारी सभी चीज़ें ऐसे बिखरी रहती थी जैसे वो कैफे का कोना नहीं बल्कि तुम्हारे ड्राइंग रूम का कोई कोना है.. तुम्हारा जैकेट, तुम्हारे सनग्लास, हेयरक्लिप्स, दस्ताने, तुम्हारी किताबें, डायरी, कैमरा, मोबाइल और तुम्हारे चॉकलेट्स..टेबल के चारों तरफ तुम्हारी चीज़ें बिखरी रहती और अक्सर टेबल पर सर रख कर तुम यहीं सो भी जाया करती थी. उस दिन भी मैं जब तुमसे मिलने आया तुम शायद अपने नोस्टालजिक जर्नी से थक गयी थी और वहीँ टेबल पर सर रख कर सो रही थी.

मेरे आते ही तुम झटके से उठी गयी थी. मैं तो बड़े एहतियात से कुर्सी पर बैठा था कि जरा सा भी आवाज़ न हो और तुम्हारी नींद में कोई खलल न पड़े लेकिन फिर भी हलकी आवाज़ हुई और तुम एकदम हड़बड़ा के उठ गयी थी. कुछ पल तो तुम ऐसे घूरते रही थी कि जैसे मुझे तुमने पहचाना ही न हो..और फिर अगले ही पल टेबल पर रखे अपने पर्स को उठा के तुमने मेरे चेहरे पे दे मारा था और गुस्से में कहा था ”तमीज नहीं है नालायक.. ऐसे कोई डराता है क्या आकर?”. मैंने फ़ौरन तुमसे माफ़ी माँग ली थी और भगवान का शुक्र अदा किया कि तुम्हारे हाथ में टेबल पर रखा वो कॉफ़ी का मग नहीं आया वरना मेरे शक्ल की जाने क्या हालत होती.

तुम उस दिन बड़े अच्छे मूड में थी और मुझे तुरंत माफ़ भी कर दिया था. लेकिन उस दिन मेरी किस्मत में तुमसे और डांट खाना लिखा था. उस नालायक रणवीर ने भी कोई कसर नहीं छोड़ी थी. जाने कहाँ से कैफे में उसने बॉयजोन का मशहूर एल्बम ‘अ डिफरेंट बीट’ कैफे में प्ले कर दिया था. वैसे तो इसके सभी गाने तुम्हारे फेवरिट थे लेकिन एक गाना ख़ास कर के तुम्हें पसंद था..’ वर्ड्स...दिज वर्ड्स आर आल आई हैव टू टेक योर हार्ट अवे...’.

उधर इस गाने की धुन तुम्हारे कानों में पड़ी नहीं कि तुम एकदम इक्साइटेड सी हो गयी और एकदम मेरे पास आकर बैठ गयी..”कितना खूबसूरत गाना है न...याद है तुम्हें ये गाना..मैं अक्सर गाया करती थी पहले न?” तुमने मुझसे पूछा था.

मेरी हालत थोड़ी ख़राब हो गयी. वो गाना उस समय मुझे सच में याद नहीं था. बड़े दिनों बाद भी तो सुन रहा था. मुझे ये भी नहीं याद था कि मैंने ये गाना तुम्हें कभी गाते हुए सुना भी है. मैं जानता था कि ‘ना’ में जवाब देना मेरे लिए बहुत हानिकारक साबित होगा लेकिन ‘हाँ’ में जवाब दे देना और बाद में इस गाने पर पूछे किसी सवाल को न बता पाना उससे भी ज्यादा हानिकारक होता. तो मैंने हिम्मत कर के बात थोड़ा घुमा कर तुम्हें कहा था...”ऐक्चूअली पूरा गाना तो याद नहीं है..काफी पहले सुना था न...”

तुम तो लेकिन मेरे बहाने और मेरे झूठ को भी एक सेकण्ड में पकड़ लिया करती थी. “तुम्हें बिलकुल याद नहीं है ये गाना न?” तुमने गुस्से में मुझसे पूछा था. मैंने सिर हिला के ना में जवाब दिया था.

बस फिर क्या था. तुम कुछ देर तक तो गुस्से और हैरत में मेरी तरफ देखती रह गयी. दोनों हाथ हवा में खड़े कर दिए थे तुमने जिससे मुझे और डर लगने लगा था कि कहीं इस कैफे में मेरी पिटाई न हो जाए. लेकिन तुमनें बस गुस्से और डांट से ही काम चला लिया था “मैंने तुम्हें इसका कैसेट भी दिया था.. सुने भी थे क्या उस कैसेट को कभी या उसका आचार बना के खा गए थे?”

मैं एकदम सकते में आ गया था. समझ गया था मेरे उस “ना” ने अपना कमाल कर दिया है और मैं तैयार था कि आज तो अच्छी सजा झेलनी पड़ेगी.

“और कितने गुनाह करोगे दोस्त? कैसे करोगे प्रायश्चित इन सब गुनाहों का?” तुमने मुझसे ऐसे पूछा था जैसे एक गाने को भूल जाना दुनिया का सबसे बड़ा अपराध हो. मैं चुप ही रहा. ऐसे मौकों पर तुम्हारे सामने मैं सफाई देने से बचता हूँ. अक्सर ऐसा हुआ है कि सफाई देने में मेरे मुहँ से कुछ और उलटी बात ही निकल गयी है और मुझे और डांट पड़ जाती थी. फिर भी मैंने सफाई देने की कोशिश की...धीरे से तुमसे कहा “अरे यार मुझे अंग्रेजी गाने वैसे भी ज्यादा समझ में नहीं आते न..इसलिए शायद याद नहीं आ रहा हो...”

तुम कुछ देर वैसे ही गुस्से में मुझे देखती रही. फिर पीछे मुड़ कर रणवीर से कहा, “भैया इस एल्म्बम को फिर से प्ले कर देंगे? रिपीट मोड में...मुझे इस इडियट को कुछ समझाना है........प्लीज़”. रणवीर तुम्हारी ऐसी हरकतों को अब जान गया था इसलिए उसने भी मुस्कुरा के हाँ कहा दिया.

एक मास्टरनी की तरह मेरी तरफ देखकर तुमने कहा था, बहुत पढ़ लिए इंजीनियरिंग तुम, "अब चलो मैं तुम्हें ज़िन्दगी की पढाई कराती हूँ, लव नोट्स देती हूँ तुम्हें. जेब से अपनी कलम निकालो और नोट करते जाओ जो भी मैं समझा रही हूँ तुम्हें..”.

मैंने मुहँ बना कर थोड़ी असहमति जताने की कोशिश की थी लेकिन तुम फिर गुस्सा हो गयी... “मेरे यही लव नोट्स ज़िन्दगी में काम आने वाले हैं..तुम्हारी वो इंजीनियरिंग की डिग्री नहीं...समझे?? तो पे अटेन्सन....” पूरे डेढ़ घंटे तक मेरी क्लास चली थी उस दिन और करीब तीन बार वो एल्बम रिपीट मोड में प्ले हुआ था उस दिन.

मुझे तो बस ये लग रहा था कि चलो मेरा कसूर तो जो था सो था, लेकिन बाकी कैफे में बैठने वालों का क्या कसूर था कि उन्हें एक ही एल्बम डेढ़-दो घंटे तक तक सुनना पड़ा था. खैर, ये सब पूछने की तुमसे हिम्मत न तो तब थी और ना अब है.

शाम काफी हो गयी थी, और तुम्हारे घर से दीदी ने कॉल कर दिया था. वो तुम्हें जल्दी घर लौटने के लिए कह रही थी. दीदी का कॉल उस दिन मेरे लिए लाइफ-सेव्यर था..वरना मेरी क्लास कैफे बंद होने तक चलती रहती.

कैफे से निकलते वक़्त भी तुमने कमाल कर दिया था. चलते चलते तुमने रणवीर से पूछा था..”आपको बुरा तो नहीं लगा न भैया? मैंने एक एल्बम इतनी देर तक प्ले करवाया..?” रणवीर भी कम बदमाश नहीं था. वो मेरी ऐसी हालत पे जरूर हँसता होगा. उसने मुस्कुराते हुए कहा “अरे बिलकुल नहीं..”.

तुम तो लेकिन तुम ठहरी.. एकदम अन्प्रिडिक्टबल. कब क्या कर दो? कब किसे क्या कह दो ये तो तुम कभी सोचती भी नहीं थी. तुमने रणवीर से कहा “असल में यू नो बात क्या है.. इसकी इंजीनियरिंग पूरी हो गयी और पढ़ाई का असर तो देखिये इसपर कैसा हुआ है? अव्वल दर्जे का नालायक हो गया है ये लड़का. जवानी में देखो बोरिंग सा हुआ जा रहा है..रोमांटिक गाने नहीं सुनता...और देखो तो इसे ये गाना भी याद नहीं था. तो मैं चाहती थी इसे सुनाऊं ये गाना.. कुछ तो सीखे ये लड़का इस गाने से और....और, और......इसी कैफे में उस साइड टेबल पर रोमांटिक गाने सुनते हुए मुझे प्रपोज कर सके...ताकि आपका ये कैफे इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाए. तो यू सी, बहुत जरूरी था ये एल्बम लगातार प्ले करवाना. कल भी आउंगी, आपके पास तो इतने रोमांटिक अल्बम है, उसमे से ही कोई प्ले कर दीजियेगा और मैं कल फिर से कोशिश करुँगी कि ये थोड़ा तो इंटरेस्टिंग और रोमांटिक बने...और....”

“और तुम्हें प्रपोज कर सके? है न?” रणवीर ने तुम्हारी बात पूरी कर दी थी...और तुम्हारे जगह शर्म से मेरे गाल लाल हो गए थे.

"हाँ..हाँ...हाँ..बिलकूल. तुमने एकदम इक्साइटेड होकर कहा था." रणवीर भी तुम्हारी इस बदमाशी में पार्टनर बन गया था. उसने भी आगे बढ़ के तुम्हारा हौसला और बढ़ा दिया था और कहा था “कल आओ तुम और इसको भी लेकर आओ इस कैफे में...और जब तक तुम्हें कल ये प्रपोज न कर दे तब तक इसे इस कैफे में ही हम दोनों बंदी बना कर रखेंगे.”

तुम खुश थी...एकदम एकदम विजयी मुस्कान देते हुए, अपने कॉलर को पूरे टसन में ऊपर उठाते हुए मुझे चिढ़ा रही थी.. “देख लिया न मेरी ताकत को? मेरी पहुँच को? ये मेरा शहर है...और ये मेरा इलाका है जानी, यहाँ तुम्हें मुझसे कोई नहीं बचा सकता...”


उस दिन के बाद से देखो वो गाना अब मुझे जबानी याद है. 

Smile an ever lasting smile
A smile can bring you near to me
Don't ever let me find you gone
'Cause that would bring a tear to me
This world has lost its glory
Let's start a brand new story
Now my love
You think that I don't even mean
A single word I say

It's only words
And words are all I have
To take your heart away

Talk in ever lasting words
And dedicate them all to me
And I will give you all my life
I'm here if you should call to me
You think that I don't even mean
A single word I say

It's only words
And words are all I have
To take your heart away

This world has lost its glory
Let's start a brand new story
Now my love
You think that I don't even mean
A single word I say

It's only words
And words are all I have
To take your heart away

continue reading वर्ड्स - दिज वर्ड्स आर आल आई हैव टू टेक योर हार्ट अवे

Saturday, December 24, 2016

दिसम्बर, कोहरा और उसके खेल

काफी सालों बाद इस बार दिसंबर में शहर में इस कदर कोहरा मेहरबान हुआ है, वरना कोहरे ने तो जैसे ये ठान लिया था कि जनवरी के पहले अपनी शक्ल दिखानी नहीं है. तुम्हे याद है ऐसे कोहरे के मौसम में तुम कैसे फरमान जारी कर दिया करती थी? एक दिन सुबह ठीक पाँच बजे तुमने कॉल किया था और एकदम हड़बड़ी में कहा था, "सुनो.. दिसंबर जाने वाला है..बस पाँच दिन बचे हैं, और तुम सो रहे हो...? उठो, फ़ौरन उठो और जल्दी से तैयार होकर पार्क आ जाओ". कसम से , मेरा तो दिल किया था फोन में घुस जाऊं और तुम्हारी चोटी काट लूँ. जाड़े की सुबह सुबह जब कोई  गहरी नींद में रजाई के अन्दर दुबके हुए इत्मिनान से सो रहा हो तो कोई जगाता है क्या ऐसे किसी को? तुम्हें लेकिन इन सब बातों की परवाह ही कहाँ थी..तुम्हें तो बस ये मालूम था कि तुम्हें सुबह कोहरे में घूमना है और घुमाने वाला एकमात्र मैं ही था. तुम्हारी ऐसी बदमाशियों पर अक्सर मुझे गुस्से के बजाये प्यार आ जाता था. लेकिन उस दिन तुम्हारा कॉल पर ऐसे हड़बड़ाना बदमाशी या बेवकूफी नहीं थी. ये मुझे बहुत बाद में तुम्हीं से पता चला था. तुम सच में बहुत उदास हो जाया करती थी साल के आखिरी दिनों में ये सोचकर कि अब कुछ ही दिनों में दिसंबर जाने वाला है और फिर ग्यारह महीने का लम्बा इंतजार करना पड़ेगा. . दिसंबर से तुम्हें बेंतेहा प्यार था, तुम्हारा बस चलता तब तो दिसंबर को तुम ग्यारह महीने का और एक्सटेंसन दे देती. तुम्हारे मुताबिक तो साल भर बस दिसंबर का ही महिना होना चाहिए.

उन दिनों मेरे लिए सुबह के कोहरे में तुम्हारे साथ घुमने से ज्यादा मैजिकल कुछ भी नहीं था. हाँ तुम्हारे कई सारे नखरे झेलने पड़ते थे मुझे और अक्सर घर में बहाने भी बनाने पड़ते थे लेकिन इन सब के बावजूद सुबह कोहरे में तुम्हारे हाथ में हाथ डाले घुमने का वो एहसास ही बिलकुल अलग सा था. तुम्हे तो कोई दिक्कत नहीं थी, घर में उन दिनों सिर्फ तुम्हारी माँ और दीदी ही थी और तुम उन्हें जाने क्या क्या कहानियाँ बता कर सुबह हर रोज़ निकल आया करती थी.. लेकिन मैं फँस जाता था, हर दिन कोई नया बहाना सोचना पड़ता था मुझे. दिसंबर और कोहरे के कॉम्बिनेशन वाले मौसम में तुमपर अक्सर कोई न कोई सनक चढ़ जाया करती थी. याद है एक दिन तुमने फरमान जारी कर दिया कि कल से अपना बैडमिन्टन किट लेते आना. ये सोचने की तुमने जहमत भी नहीं उठाई थी कि मैं इतनी सुबह घर में क्या बोल कर बैडमिन्टन किट हर दिन लाया करूँगा? पूरे एक डेढ़ महीने मेरे घरवालों को लगता रहा था कि मैं कॉलेज के बैडमिन्टन चैम्पैन्शिप में भाग ले रहा हूँ और उसी की तैयारी के लिए सुबह इतने कोहरे में भी निकल जाता हूँ. उन्हें क्या पता था कि मैं तुम्हारे आदेशों का पालन कर रहा था.

बैडमिन्टन खेलने का तुम्हें कभी शौक नहीं रहा था. लेकिन एक सुबह तुमने पार्क के एक कोने में किसी लड़के-लड़की को देख लिया था बैडमिन्टन खेलते हुए, तब से ही तुम्हारे मन में ये सनक बैठ गयी थी. तुम भी हर सुबह खेलती थी बैडमिन्टन. लेकिन तुम्हारे साथ बैडमिन्टन खेलना भी आसन कहाँ था? बैडमिन्टन के तुम्हारे अपने नियम थे. तुम्हारे ही जैसे यूनिक नियम जैसे, बैडमिन्टन खेलने समय मैं तुम्हें जोर से कोई शॉट नहीं  मार सकता था, वरना मेरे पॉइंट कट जाते. ना ही तुम्हें कोई शॉट मैं ज्यादा ऊपर या नीचे खेलवा सकता था. मतलब ये कि तुम्हारे बैडमिन्टन रैकेट के आसपास ही कॉर्क आना चाहिए जिससे तुम आराम से शॉट मार सको, और इतने पर भी तुम्हारा कोई शॉट मिस हुआ तो भी पॉइंट मेरे ही कटते थे. कभी गलती से मैंने शॉट मारने में थोड़ी हीरोगिरी दिखा दी तो पॉइंट तो कटते ही कटते, जाड़े के मौसम में, ऐसे कोहरे में, बैडमिन्टन रैकेट से मार अलग से पड़ती थी तुमसे.

ऐसे ही सनक तुम्हें चढ़ी थी एक दफा क्रिकेट खेलने की भी. एक दो तीन तो हमारे दोस्तों की गैंग भी आई थी क्रिकेट खेलने. लेकिन तुम्हारे नियम...वो तो इस खेल में भी अजीबोगरीब थे. बस एक दिन में ही सब दोस्त तुमसे तंग आकर भाग गए थे. तुम्हें हर ओवर का पहला बॉल ट्राई बॉल चाहिए था. हर बॉल तुम्हारे बैट पर ही आना चाहिए था. अगर गलती से शॉट मिस हो जाता तो वो बॉल 'इनवैलिड' हो जाता था. तुम्हें बोलिंग करना आसान कहाँ था? बोलिंग करते समय रन अप लेने की तो सोचना भी अपराध था. तीन चार क़दमों की चहलकदमी कर के भी तुम्हें गेंद फेंकने आता तो तुम एकदम झल्ला जाती थी और बैट फेंक देती थी. तुम्हें बस इतना चाहिए था कि खड़े होकर सीधा सपाट बॉल तुम्हें फेंका जाए जिसे तुम आराम से बाउंड्री पार भेज सको. तुम्हें आउट करना भी तो टेढ़ी खीर थी. दुनिया का महानतम गेंदबाज तुम्हें आउट नहीं कर सकता था. उन दिनों हम इंटों का विकेट बनाते थे. कुछ आठ-दस इंटें लगते थे विकेट बनाने में, और तुम जब बैटिंग करती तो सभी इंटों को नीचे गिरा देती थी. बस दो इंटें एज अ विकेट लगे रहते थे और यदि उन इंटों पर तुम्हारे नियमों के मुताबिक बॉल लगे तो ही तुम आउट होगी.

जहाँ तक तुम्हारे बोलिंग करने का सवाल था, उसका मुझे ज्यादा इक्स्पिरीअन्स नहीं है. तीन चार बार ही हुआ होगा ऐसा जब तुमने मुझे बैटिंग करने का मौका दिया था. इतना बस मुझे याद है कि मैं बैटिंग और फील्डिंग एक साथ किया करता था. इधर मैंने शॉट मारा नहीं कि तुम चिल्लाती थी, "अरे जल्दी पकड़ो बॉल को, वरना चार रन हो जायेंगे और तुम जीत जाओगे" और मुझे भाग कर गेंद पकड़ना पड़ता था. गलती से अगर मेरे बैट से लगी बॉल बाउंड्री पार चली जाती तो तुम्हारे ताने अलग सुनने पड़ते थे मुझे, "ठीक से फील्डिंग भी नहीं कर सकते तूम...कुछ काम के लायक नहीं हो".  ऐसी तो थी तुम. कौन तुम्हारे ऐसे नियमों के साथ क्रिकेट खेलता. तुम्हारे इन नखरों को सिर्फ मैं ही झेलता था, और किसी में इतनी हिम्मत कहाँ थी? लेकिन तुम्हारे इन सब नखरों के बावजूद तुम्हारे साथ सुबह के ये दो ढाई घंटे मेरे लिए दिन के बेहतरीन पल होते थे.

तुम्हें याद है मेरे पास उन दिनों एक छोटा टू-इन-वन था जो एक क्विज कम्पटीशन में मुझे इनाम में मिला था. जैसे तुमने बैडमिन्टन और क्रिकेट किट लाने का फरमान जारी किया था, ठीक ऐसे ही तुमने एक दिन टू-इन-वन लाने का फरमान जारी कर दिया था. क्रिकेट और बैडमिन्टन तक तो ठीक था, लेकिन ये टू-इन-वन लाने का मैं घर में क्या बहाना बनता? कि मैं किसी म्यूजिक कम्पटीशन में भाग ले रहा हूँ? दो दिन तो किसी को पता नहीं चला था कि मैं हर सुबह अपने उस छोटे से टू-इन-वन को बैग में रख कर ले जाता हूँ. लेकिन एक दिन माँ ने देख लिया तो पूछा, तुम तो सुबह खेलने जाते हो? ये टू-इन-वन किसलिए? अब मैं क्या कहता? हमेशा एक ही बहाना बनाता था, कि दोस्तों के साथ सुबह क्रिकेट की कमेंटरी सुनता हूँ. सोचो ज़रा, इतने पापड़ बेलने पड़ते थे मुझे तुम्हारे हर आदेश का पालन करने में.

तुम्हारी एक ख्वाहिश थी, कि हम और तुम इस पार्क में टहलते रहे, या कुछ खेलते रहे या बस कहीं किसी बेंच पर बैठे रहे और बैकग्राउंड में संगीत बजते रहना चाहिए. याद है एक दिन तुमने कहा था मुझसे "पता करो इस पार्क का रख-रखाव कौन करता है और उसे मेरे पसंद की गानों की एक सीडी बना कर दे दो और कहो कि पार्क में हर जगह लाउडस्पीकर लगवा दे और वो सारे गाने एक एक कर के बजाये". खैर ये तो मुमकिन नहीं था शायद इसलिए तुमने पार्क में गाने सुनने का एक दुसरा रास्ता निकाल लिया था. मुझे तुमने टू-इन-वन लाने का फरमान सूना दिया था और मेरे उसी छोटे से टू-इन-वैन पर ही तुम अपनी हसरत पूरी कर लिया करती थी. तुम अपने मन पसंद गाने बजा लेती थी और टू-इन-वन को वहीँ किसी बेंच पर रख कर हम दोनों बैडमिन्टन खेलते थे और खेलने के बाद बहुत देर तक वहाँ बैठ कर गाने सुनते थे. उन दिनों ऐसा लगता था अक्सर कि ये टू-इन-वन हमारा कोई दोस्त हो जो हम दोनों के बीच बेंच पर चुपचाप बैठे हुए हमारी बातें सुन रहा है और हमें गाना सुना रहा है.

एक छोटा सा खेल भी तुमने इजाद किया था उन दिनो. मेरे पास कुछ इन्स्ट्रमेन्टल गानों की कैसेट थी. तुम उन कैसेट्स को टेप पर चलाती और कहीं भी बीच में रेंडमली फॉरवर्ड या रिवाइंड कर के बस तीन या पाँच सेकण्ड के लिए प्ले करती और मुझे पहचानना होता था कि वो गाने की कौन सी लाइन थी. मैं अक्सर हार जाया करता था लेकिन तुम हमेशा ही जीतती थी. इस एक खेल में ना तो तुम्हारे कोई वीयर्ड नियम थे और नाही तुम्हारे कोई नखरे. मुझे हैरानी भी होती थी उस वक़्त कि ऐसे कैसे तुम्हें हर गाने इतने अच्छे से पता हैं. मेरे लिए इस  खेल में एक फायदा ये था, कि तुम हर गाने को पहचान लेती थी और फिर उसे मेरे सामने गुनगुनाती थी. तुम्हारे साथ दिसंबर के कोहरे वाली सुबह की शायद ये मेरी सबसे मीठी याद है.

आज तुम्हारी उन बातों को याद कर के चेहरे पर एक मुस्कराहट तैर जाती है. सच कहूँ तो तुम्हारी जितनी भी अजीबोगरीब फरमाइशें थीं, जितने भी आदेश थे उनसे मुझे कभी इरिटेशन महसूस नहीं हुई. मैं तुम्हारी उन हरकतों पर उन दिनों कभी कभी हँसने की गुस्ताखी जरूर कर देता था लेकिन मुझे सच में बहुत अच्छा लगता था जब तुम ऐसे मुझपर हुक्म चलाती थी. इस बार दिसंबर के मौसम में शहर के उस पार्क में जहाँ हम और तुम जाया करते थे हर सुबह, एक बड़ा प्यारा सा बदलाव हुआ है जिसे देखकर मैं कुछ देर के लिए दंग रह गया था. पार्क के हर कोने पर लाउडस्पीकर लगा दिए गए थे और सुबह सुबह रोमांटिक इंस्ट्रुमेंटल और कभी कभी रफ़ी के रोमांटिक गाने बजते हैं. मुझे ये सोच कर हँसी भी आ गयी कि चलो तुम्हारी फरमाइश को पार्क के मैनेजमेंट ने इतने सालों के बाद ही सही, माना तो आखिर. मुझे उस समय तुम्हारी कमी बहुत शिद्दत से महसूस हुई थी और मुझे लगा काश तुम यहाँ होती और ये प्यारा सा बदलाव तुम देखती. तुम्हारे चेहरे की ख़ुशी ऐसे में देखने लायक होती. पार्क के ही एक कोने पर मेरी मेरी नज़र गयी दो लड़के लड़कियों पर जो सुबह के कोहरे और ठण्ड में बैडमिन्टन खेल रहे थे. मुझे तुम्हारी और ज्यादा याद आने लगी, और मैं पार्क की बेंच पर बैठा आँखें बंद कर लेता हूँ और बहुत पीछे उस साल में पहुँच जाता हूँ जब तुम और मैं यहाँ बैडमिन्टन खेलते थे. बीच बीच में पार्क में बजता हुआ एक रोमांटिक गाने के बोल सुनाई दे रहे हैं.

निगाहों में छुपकर दिखाओ तो जानें
ख़यालों में भी तुम न आओ तो जानें
अजी लाख परदे में छुप जाइयेगा
नज़र आइयेगा नज़र आइयेगा

अजी हमसे बचकर कहाँ जाइयेगा
जहाँ जाइयेगा हमें पाइयेगा




continue reading दिसम्बर, कोहरा और उसके खेल

Sunday, December 11, 2016

कोहरे पर लिखा एक नाम

वह दिसंबर की एक सर्द सुबह थी. ठण्ड इतने कि रजाई से निकलने का मन न करे, पर जल्दी उठना लड़के की मजबूरी थी. क्या करता वह? लड़की ने उसे हुक्म दिया था.. सुबह ठीक साढ़े छः बजे मेरे घर पहुँच जाना, मुझे ड्राइव पर चलना है.

लड़के ने अधखुली आंखों से ही अपने मोबाइल पर एक नजर डाली, सुबह के 6:00 बजे थे. हारकर उसने रजाई अपने ऊपर से हटा दी और उठ कर एक अंगडाई लेता हुआ खिड़की के पास तक आ गया. खिड़की से बाहर देखा तो कुछ भी नजर नहीं आ रहा था. धुंध इतनी गहरी थी कि उसे तो सामने वाले घर की बालकनी भी नजर नहीं आ रही थी. लड़के का मन हुआ कि वह फोन करके लड़की को मना कर दे कि वह आज नहीं आ पाएगा पर उसकी इतनी हिम्मत ही नहीं थी कि वह इस तरह का कोई कॉल करने की सोच भी सकता. हुक्म आखिर हुक्म था और उसकी तामील करना उसका फर्ज़... और हुक्म भी कोई ऐसा-वैसा नहीं, बल्कि गाड़ी लेकर लड़की के घर सुबह ठीक 6:30 बजे आकर उसे मोर्निंग ड्राइव पर ले जाने का हुक्म था.

यूँ तो लड़के को लड़की की हर अदा, हर ज़िद और हर नखरे पर बेइंतिहा प्यार आता था...पर जाने क्यों आज उसे थोड़ी सी इरिटेशन महसूस हो रही थी. ऐसे कोहरे में लड़की का उसके जैकेट में हाथ डाल कर टहलना एक बात थी और कोहरे में ड्राइव पर निकलना दूसरी बात थी. एक तो कोहरे में वैसे भी सड़क दिखाई नहीं देती. गाड़ी के शीशों पर भी धुंध आ जाती है और ऐसे में ड्राइव पर जाना खतरनाक आईडिया था. लड़के को कोहरे में गाड़ी चलाना कभी भाता नहीं था लेकिन लड़की को कोहरे में ड्राइव पर जाना बड़ा रोमांटिक लगता था.

लड़के ने मन ही मन तय किया कि आज कुछ भी हो जाए, वो लड़की को गाड़ी की चाभी तो नहीं देने वाला है. एक तो आम दिनों में लड़की गाड़ी सही से चलाती नहीं थी, हॉर्न देने के बजाये कार के अन्दर से ही चिल्लाती थी “हटो हटो...सामने से हटो..” और ऐसे मौसम में जब पूरा शहर कोहरे की गिरफ्त में है, उसे गाड़ी चलाने की सूझी है. लड़के ने ये तय कर लिया कि लड़की को तो वो गाड़ी चलाने नहीं देगा. लड़की को मोर्निंग ड्राइव पर जाना है तो वो ड्राइव कर के ले जाएगा. लड़का जानता था ये काम इतना आसान नहीं है.. लड़की को बहुत प्यार से मनाना पड़ेगा ताकि वो गाड़ी चलाने की जिद न करे. अपने इन्हीं ख्यालों में खोए लड़के की निगाह जब घड़ी पर गई तो वह चौंक गया...उफ़! छः पच्चीस तो यहीं बज गए...यानि अब उसको पक्का देर होनी थी और देर होने का मतलब, लड़की की तय की गई कोई अजीबोगरीब सजा झेलना . ऐसा नहीं था कि लड़की कभी देर से नहीं आती थी, वो अक्सर ही देर से आती थी और खुद की लेटलतीफी के लिए उसके पास हमेशा बेहद अजीब अजीब से लॉजिक मौजूद होते थे. मसलन...लड़कों का लेट होना बहुत बोरिंग होता है, जब कि लड़कियों का लेट होना बेहद रोमांटिक एक और तर्क तो इससे भी ज़्यादा अजीब था...लड़के जब देर से आते हैं तो वो बिलकुल जोकर लगते हैं और लड़कियाँ जितनी देर से आती हैं वो उतनी ही अधिक सुन्दर हो जाती हैं.

कभी कभी लड़की की ऐसी इललॉजिकल बातों पर लड़के का बहुत मन करता कि वह पेट पकड़ कर लोट लोट के हँसे, पर हँसना तो दूर अगर ऐसे में भूल से भी उसके चेहरे पर एक मुस्कान भी आ जाती तो उसकी शामत आना तय था. लड़की ऐसे में मुँह फुला के बैठ जाती...मेरी बात तुमको जोक्स लगती है न...और मैं कोई जोकर...लड़के का दिल करता, वह ज़ोर से अपनी गर्दन 'हाँ' में हिला दे, पर 'आ बैल मुझे मार' का ख़तरा कौन मोल लेता.

ये सब बातें याद करते हुए लड़के के चेहरे पर फिर एक मुस्कान खिल उठी. लड़की की यही सब बातें तो उसे उसकी उम्र की बाकी लड़कियों से अलग करती थी. सबसे ख़ास और अनोखी बात तो उसे यह लगती थी कि लड़की सिर्फ़ उसके सामने ही इस तरह ट्रांसफॉर्म होती थी...बाकी दुनिया के सामने उसका ये रूप नहीं आता था. एक बेहद हँसमुख पर संजीदा सी समझदार लड़की कैसे उसके सामने इतनी बचकानी हो जाती थी वह कभी जान नहीं पाया था. बहुत दिन पहले उसके अचानक हुए गंभीर रूप से रूबरू हो उसने धीरे से पूछा भी था...तुम जब इतनी समझदार हो तो मेरे ही सामने इतनी बच्ची क्यों बन जाती हो ? जवाब में वो फिर तुनक गई थी...तुमको तुम्हारी असली गुड़िया” ज्यादा पसंद है या “नकली”? बस बता दो, फिर तुम देखना... कहते-कहते उसकी आँख डबडबा आई थी तो वह एकदम से घबरा गया था। उसका यह मकसद बिलकुल नहीं था, न ही उसे अंदाज़ा था कि बेहद हल्के-फुलके रूप में पूछी गई उसकी यह बात उसे इस कदर हर्ट कर देगी. वह हड़बड़ा के उसको एक बच्चे की तरह मनाने लगा था...और उस दिन हमेशा की तरह देर तक नखरा दिखाने की जगह वह झट से मान भी गई थी.

लड़की के घर पहुँचते पहुँचते उसे सात बज गए थे. आधे घंटे देर से पहुँचने से लड़का वैसे ही डरा हुआ था. मन ही मन सोच रहा था, आज तो शामत आई अपनी. लड़के ने उसके अपार्टमेंट के गेट के पास इधर उधर निगाह दौड़ाई, पर लडकी का कोई अता-पता नहीं था. लड़के ने राहत की साँस ली. वो अपार्टमेंट के सामने वाली चाय दूकान में बैठ गया और लड़की का इंतजार करने लगा. दस प्रन्द्रह मिनट उसका इंतज़ार करके उसे चिंता होने लगी थी. फोन पर नजर दौड़ाई तो ना लड़की का कोई एसएमएस आया था ना ही उसने कॉल किया था. ऐसे कोहरे वाला मौसम तो उसका सबसे ज़्यादा पसंदीदा मौसम है, फिर इसको वह कैसे मिस कर सकती है भला...? कहीं उसकी तबियत फिर से ख़राब तो नहीं हो गयी? उसने मोबाइल पर लडकी का नम्बर डायल किया. उधर घंटी बस बंद ही होने वाली थी कि तभी लडकी की उनींदी आवाज़ में उससे भी ज़्यादा निन्दियाया हुआ एक बेचारा सा `हैल्लो' लड़के के कानों में पड़ा...

"तुम अभी तक सो रही हो...? भूल गई क्या तुमने आज मुझे यहाँ बुलाया था...?" लड़के की आवाज़ में न चाहते हुए भी थोड़ी नाराजगी झलक गई, "मैं कब से तुम्हारा इंतज़ार कर रहा हूँ और तुम वहाँ रजाई ओढ़ के आराम से सो रही..."

लड़के के कॉल से लड़की भी हडबडा के उठ गयी. उसकी आवाज़ की तल्खी लडकी भांप गई थी पर हमेशा की तरह डरने की बजाय वह भी गुस्सा गई,"तुमको किसने कहा था तुम इत्ती सुबह तुमको पहुँचने? अब भुगतो... एक तो मूवी देख कर वैसे ही मैं दो बजे सोई, ऊपर से तुमने भी जगा दिया... मुझे अभी आधा घंटा और लगेगा आने में...

लडकी को यूँ गुस्सा होते देख मानो लड़के के होश उड़ गए थे. ये लो..अब अगर ये गुस्सा हो गई तो इसको मनाना और भी टेढ़ी खीर होगी. सो वह झट से समझौते के मूड में आ गया,"अच्छा-अच्छा, ठीक है...मुझे क्या पता था ये सब...तुम आओ अब, मैं यहीं गेट के पास तुम्हारा इंतज़ार कर रहा हूँ.."

लडकी जब वहाँ आई तो बेहद खुशनुमा मूड में थी. हलके नीले रंग की डेनिम की जींस पर ब्लैक लेदर जैकेट और गले में बेहद नफासत से लिपटे स्कार्फ के साथ वह बेहद खूबसूरत लग रही थी. इतने कोहरे में भी उसे धूप का काला चश्मा लगाए देख कर लड़के की हँसी छूट गई, जिस पर उसने बड़ी मुश्किल से काबू पा लिया. चेहरे पर नकली गंभीरता ओढ़े उसने उसे फटाफट गाडी में बैठ जाने को बोला, पर लडकी तो लडकी थी...इतनी आसानी से कहाँ मानने वाली थी. इसलिए फिर तुनक गई...पहले कायदे से मेरी तारीफ करो...तब गाडी में बैठूंगी. लड़का तो कब से उसकी तारीफ करने का मौक़ा ढूँढ ही रहा था, तभी तो अपनी सारी शायराना जानकारी का इस्तेमाल करते हुए उसने लडकी की भरपूर तारीफ कर डाली...पर आखिर में उससे रहा नहीं गया तो इस समय भी धूप का चश्मा पहनने की वजह पूछ ही डाली. लडकी ने उसे कुछ ऐसे घूर के देखा मानो इस बेवकूफाना सवाल की उम्मीद उसे बिलकुल नहीं थी. फिर बड़ी लापरवाही से कंधे उचका के बोली...तुम ही तो कहते हो मुझे सनशाइन...अपनी ही रोशनी से मेरी आँखें चौंधिया जाती तो...? तुमको इतना भी समझ नहीं आता...ओह गॉड!! कितने बुद्धू हो तुम...!! लड़का हमेशा की तरह बिलकुल क्लू-लेस था . ऐसे तर्क उसे हमेशा निरुत्तर कर देते थे.

लड़का ड्राइविंग सीट पर बैठने ही वाला था कि लड़की ने टोका.. “ऐ मिस्टर, उधर कहाँ? इधर आइये आप. आपकी सीट ये है. वो ड्राइविंग सीट अगले दो घंटे तक मेरे नाम पर बुक्ड है...”. लड़का इसके लिए तैयार था. उसने पहले तो सख्ती से साफ़ मना कर दिया और फिर बड़े प्यार से लड़की को समझाने लगा कि ऐसे कोहरे में अच्छे ड्राइवर्स को भी गाड़ी चलाने में दिक्कत होती है..कोहरे में गाड़ी चलाना कितना मुश्किल है वो एक एक कर के लड़की को समझाने लगा था. लड़की लेकिन कहाँ मानने वाली थी. इस बार वो गुस्सा होने के बजाये लड़के को इमोशनली ब्लैकमेल करने लगी. अंत में थक हार के लड़के ने न चाहते हुए भी गाड़ी की चाबी लड़की को थमा दी.

लडकी ने बड़ी प्रोफेशनली ड्राइविंग सीट सम्हाल ली थी | इग्नीशन ऑन करने से पहले लड़की ने लड़के से बड़े लापरवाही से पूछा...अच्छा ये क्लच है न और ये ब्रेक और ये एक्सलेटर...? लड़का हैरत से उसे देखने लगा.. तुम भूल गयी? लडकी ने इग्नीशन ऑन करते हुए बड़ी लापरवाही से कंधे उचका दिए...याद है याद है..थोड़ा कन्फ्यूज्ड थी..अभी चलाऊँगी तो सब फिर से याद आ जाएगा ...नहीं याद आया तो तुम तो बता ही दोगे न...

लड़के का दिल किया अपना माथा पीट ले...हद है यार, ये गाडी चलने बैठी है और इसको यही याद नहीं कि गाडी का ब्रेक, क्लच या एक्सीलेटर कहाँ है...एक बार फिर उसको सब बता कर सीट बेल्ट बाँध कर और उसको भी बंधवा कर लड़के ने भगवान् का नाम लिया और स्टेयरिंग उसके हवाले कर दिया.

कुछ दूर तक उसे ठीक-ठाक चलाते देख कर उसने राहत की साँस ली. पर अभी यह साँस वह ठीक से ले भी न पाया था कि लडकी के “रुक-रुक” और “हट-हट” की आवाज़ से एकदम हडबडा गया और जब तक वह कुछ समझ पाता, उसकी गाडी का एक कोना सड़क किनारे खड़े ऑटो से टकरा चुका था.

जब तक लड़का बाहर निकल कर गाडी को हुआ नुकसान आँक पाता, लडकी ने एक झटके से गाडी का दरवाज़ा खोला और अपने ऊपर इस अचानक हुए हमले से धक्का खा कर बौखलाए ऑटो-ड्राईवर पर बरस पडी," दिखाई नहीं देता, इतनी बड़ी गाडी आ रही? बेवकूफों की तरह चुपचाप गाड़ी बीच सड़क पर लगाये बैठे हुए थे...? ऑटो ड्राईवर भी थोड़ा तैश में आ गया और बहस करने लगा. लेकिन लड़की पूरे तरह से ऑटो ड्राईवर के ऊपर बरस पड़ी थी. आसपास के कुछ लोग भी वहाँ जमा हो गए थे. भीड़ इकट्ठी होते देख लड़के ने किसी तरह दोनों को शांत कराया और ऑटो वाले से माफ़ी माँग कर लड़की को बेहद मुश्किल से किसी तरह घसीट-घसाट के गाडी की पैसेंजर सीट पर बैठा दिया.

गाड़ी में दोनों कुछ देर तक चुप रहे. लड़का ये नहीं समझ पा रहा था वो लड़की की इस बेवकूफी पर हँसे या गुस्सा दिखाए. वो ये जानता था कि गलती पूरी लड़की की ही थी. वो बेचारा ऑटो तो बड़े आराम से सड़क के किनारे खड़ा था लेकिन उसके समझ में ये नहीं आ रहा था कि बीच सड़क पर चलती उसकी गाड़ी डाइवर्ट होकर किनारे लगे ऑटो में कैसे जा टकराई. उससे रहा नहीं गया तो उसने आख़िरकार पूछ ही दिया लड़की से.. “तुम्हारी उस ऑटो वाले से कोई पुरानी दुश्मनी तो नहीं थी?” लड़की उसके तरफ आँखें तरेर कर देखने लगी.. “क्या मतलब है तुम्हारा..? कहना क्या चाहते हो तुम...”

लड़के ने बड़े मासूमियत से कहा, “अरे दुश्मनी नहीं थी तो गाड़ी तो सड़क के बीचोबीच चल रही थी..सड़क के किनारे खड़े ऑटो को एकदम फॉर्टी फाइव डिग्री के एंगल से जाकर कैसे ठोक दिया तुमने?

लड़की ने गुस्से में जवाब दिया...”अरे वो तो मैं अपनी जुल्फें समेटने लगी थी तो गाड़ी उधर भाग गयी...मैं तुम्हारे इस खटारा सी गाड़ी को भी कितना रोक रही थी लेकिन रुकी ही नहीं...और वो ऑटो ड्राईवर..एकदम बहरा था. मैं कितना चिल्ला रही थी. वो सुन ही नहीं रहा था. पता नहीं कौन ऐसे-ऐसे लोगों को ऑटो चलाने का लाइसेंस दे देता है, बेचारी सवारियां तो ऐसे ऑटो में बैठ कर फ़ालतू में मर जाती होंगी". मुझे तुमने रोक लिया नहीं तो मैं उस पागल की ईंट से ईंट बजा देती...लाइसेंस ज़ब्त न करवा देती तो मेरा नाम बदल देते.

गाडी को हुए नुकसान को देख कर माँ-पापा क्या कहेंगे, लड़के को जाने क्यों इस समय उस बात की चिंता के बजाये लडकी के इस गुस्से पर बेहद प्यार आ रहा था..अच्छा, तो नाम बदल कर कौन सा नाम रखूँगा मैं तुम्हारा...?


'परी...’ लडकी ने दो मिनट बड़ी गंभीरता से उसकी बात पर गौर करने के बाद कहा और खिड़की पर छाई धुंध पर अपना नाम लिख दिया...|
continue reading कोहरे पर लिखा एक नाम