Monday, June 28, 2010

आस अभी बाकी है

चाहे कितने भी सितम कर ले ये दुनिया,
दिल में एक आस अब भी बाकी है...
आने के किसी शख्स का,
इंतज़ार अब भी बाकी है..

ये माना दर्द झेले हैं हमने बहुत
पर शायद दर्द की कुछ और किश्तें अभी बाकी हैं..

खुशियाँ आएँगी हमारे पास फिर किसी बहाने से..
दिल  के किसी कोने में ये एक आस अब तक बाकी है...