Sunday, June 13, 2010

उस दिन..

कुछ  बात हुई थी उस दिन, कुछ ऐसे पल थे...वो पल वो दिन, अब फिर नहीं आयेंगे....ये कुछ लाइन मैंने उन्ही दिनों लिखी थी...जो मेरे साथ रहे उस पल वो जरूर समझ जायेंगे पूरी बात इन पंक्तियों को पढकर.. :)


उसके चेहरे की उस वक्त हालत कुछ यूँ थी,
होठों पे दबी सी हंसी, माथे पे थोड़ी सिकन
नज़रें भी इशारों से कुछ बोल रही थी.,
खामोश  बैठी थी वो, 
पर सैकरों सवाल पूछ रही थी...


 -- (कुछ खास लोगों को समर्पित ये कुछ पंक्तियाँ) :)