Sunday, June 13, 2010

// // 9 comments

उस दिन..

कुछ  बात हुई थी उस दिन, कुछ ऐसे पल थे...वो पल वो दिन, अब फिर नहीं आयेंगे....ये कुछ लाइन मैंने उन्ही दिनों लिखी थी...जो मेरे साथ रहे उस पल वो जरूर समझ जायेंगे पूरी बात इन पंक्तियों को पढकर.. :)


उसके चेहरे की उस वक्त हालत कुछ यूँ थी,
होठों पे दबी सी हंसी, माथे पे थोड़ी सिकन
नज़रें भी इशारों से कुछ बोल रही थी.,
खामोश  बैठी थी वो, 
पर सैकरों सवाल पूछ रही थी...


 -- (कुछ खास लोगों को समर्पित ये कुछ पंक्तियाँ) :)

9 comments:

  1. bhaiya main to smajh nahi paya par padh ke achcha laga

    ReplyDelete
  2. shandar post...
    ab sikan hai hamare mathe pr bhi aur savalo pr saval khade ho rhe hai...

    ReplyDelete
  3. myb aisa hua ho ~ kisi ko achanak se koi propose kr de n tht too aftr 6yr ..

    i m jst guessing.. ;-) isnt it abhi !! :P

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी है ये अभिषेक जी !

    ReplyDelete
  5. why i m commenting here i dnt knw :d
    @divu
    chup raha kar kabhi tu

    ReplyDelete

आप सब का तहे दिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और टिप्पणियां देने के लिए..कृपया जो कमी है मेरे इस ब्लॉग में मुझे बताएं..आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा...टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..शुक्रिया