Friday, May 14, 2010

तुम बहुत याद आती हो

आज फिर उस पन्ने के तरफ धयान गया,
जिसपर बड़े प्यार से तुमने
लिखा था की
"फिर मिलेंगे"..
सहेज के रखा है  अब तक मैंने उस पन्ने को
की बस
वही तो एक वजह है
जिससे उम्मीद अब भी है
की तुम वापस आओगी,
अपना कहा निभाओगी.
की हम फिर मिलेंगे...

उसी पन्ने के एक कोने पे,
ये भी लिखा था तुमने
हमेशा मुस्कुराते रहना,
हर पल मैं तुम्हारे साथ रहूंगी,
हर पल तुम मेरे साथ रहोगे,
अपनी मुस्कराहट को तुम
कभी न खोना.
आज भी मुश्किलों के दिनों में
वो लिखी हुई बातें तुम्हारी
मेरे चेहरे पे एक प्यारी मुस्कान दे जाती है,
और उस पल
की जब मैं मुस्कुराता हूँ..
तुम बहुत याद आती हो...!