Thursday, February 25, 2010

बिगड़ा मेरा नसीब

बिगड़ा मेरा नसीब तो सब कुछ संवर गया
काँटों पे मैं गिरा और ज़माना गुज़र गया

तूफान से थक गया, मैंने पतवार छोर दी 
जब मैं डूब चुका, समंदर ठहर गया

टुकड़े तेरे वजूद के,फैले थे मेरे पास
उनको समटने में, मेरा वजूद बिखर गया 

मंजिल को ठुंठता रहा, मुसाफिर ये क्या हुआ
एक राहगुज़र पे उसका सफाराब ही बिछड़ गया

ढलने लगी है रात, चले जाओ दोस्तों
मुझे भी ठुंठना है मेरा घर किधर गया....