Saturday, December 20, 2008

// // 14 comments


Meri Tasveer..

तेरी हर एक बेचैनी
मुझे रातों जगाती है......

मेरी यादों की महफिल में
बस एक तू ही तो आती है......

तेरी ऑंखें जो कहती है
वोह मेरा दिल समझता है.......

मेरे आसूयों की सरगर्मी......
को तू क्यूँ ना समझ पाई...



पल भर में तमाम उम्र की सोचें बदल जाती हैं..
जिन राहों पे चलते हैं वो राहें बदल जाती हैं..
करने को क्या नहीं करते लोग मोहब्बत में..
बस हमारे लिए ही रश्में बदल जाती हैं...

रेजा रेजा बिखरी है जिन्दगी,ना जाने कब से एक मोड पे रुकी है जिन्दगी..
दर्द दिल से उतर कर रूह मे समाने लगा है क्यों रेत की तरह बिखरी है जिन्दगी..
हर तरफ दुआओं का सिलसिला है ना जाने किस कोने मे ये रब छिपा है..
दुंड कर कोई कह्दो उसे इन हवाओ मे भी खुशबु बन कर बिखरी है जिन्दगी
..


साँस लेना भी कैसी आदत है
जीये जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं है आँखों में
पाँव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफ़र है जो बहता रहता है
कितने बरसों से, कितनी सदियों से
जिये जाते हैं, जिये जाते हैं
आदतें भी अजीब होती हैं


रात भर सर्द हवा चलती रही
रात भर हमने अलाव तापा
मैंने माजी से कई खुश्क सी शाखें काटीं
तुमने भी गुजरे हुये लम्हों के पत्ते तोड़े
मैंने जेबों से निकालीं सभी सूखीं नज़्में
तुमने भी हाथों से मुरझाये हुये खत खोलें
अपनी इन आंखों से मैंने कई मांजे तोड़े
और हाथों से कई बासी लकीरें फेंकी
तुमने पलकों पे नामी सूख गयी थी, सो गिरा दी|

रात भर जो भी मिला उगते बदन पर हमको
काट के दाल दिया जलाते अलावों मसं उसे
रात भर फून्कों से हर लोऊ को जगाये रखा
और दो जिस्मों के ईंधन को जलाए रखा
रात भर बुझते हुए रिश्ते को तापा हमने |

14 comments:

  1. बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .

    कृपया मेरा भी ब्लाग देखे और टिप्पणी दे
    http://www.manojsoni.co.nr

    ReplyDelete
  2. हिंदी लिखाड़ियों की दुनिया में आपका स्वागत। खूब लिखे। बढ़िया लिखें ..हजारों शुभकामनांए

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत शेरों का गुलदस्ता है आपका ब्लॉग
    स्वागत है आपका

    ReplyDelete
  5. Very Very good dear...
    liked it very much

    ReplyDelete
  6. its really beautiful..keep writing..

    ReplyDelete
  7. very beautiful blog....
    loved ur postings friend

    ReplyDelete
  8. आप कमाल का लिखते हैं....
    आपके जैसे हम भी लिख सकते काश...

    ya, i hv bcm ur fan....

    ReplyDelete
  9. very nice writings...it was so sweet posting....loved every line

    ReplyDelete
  10. ही ही ही.. तुम्हारा पुराना पोस्ट खोलकर पढ़ रहा था.. यह पोस्ट पढ़ते ही हंसी आ गई.. कभी बात होगी तब इस हंसी का राज बताता हूं. :D

    ReplyDelete
  11. अभी इस हँसी का राज़ खोला कि नहीं प्रशांत ने...???
    वैसे इन नज्मों को लिखने वाले के लिए...वाह...!!! :) :P

    ReplyDelete

आप सब का तहे दिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और टिप्पणियां देने के लिए..कृपया जो कमी है मेरे इस ब्लॉग में मुझे बताएं..आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा...टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..शुक्रिया